हे रोम रोम मे बसने वाले राम! (Hey Rom Rom Main Basne Wale Ram)

हे रोम रोम मे बसने वाले राम,

जगत के स्वामी, हे अन्तर्यामी, मे तुझ से क्या मांगूं।



आप का बंधन तोड़ चुकी हूं, तुझ पर सब कुछ छोड़ चुकी हूं ।

नाथ मेरे मै, क्यूं कुछ सोचूं, तू जाने तेरा काम॥

जगत के स्वामी, हे अन्तर्यामी, मे तुझ से क्या मांगूं।

॥ हे रोम रोम मे बसने वाले राम...॥



तेरे चरण की धुल जो पायें, वो कंकर हीरा हो जाएँ ।

भाग्य मेरे जो, मैंने पाया, इन चरणों मे ध्यान॥

जगत के स्वामी, हे अन्तर्यामी, मे तुझ से क्या मांगूं।

॥ हे रोम रोम मे बसने वाले राम...॥



भेद तेरा कोई क्या पहचाने, जो तुझ सा को वो तुझे जाने ।

तेरे किये को, हम क्या देवे, भले बुरे का नाम॥

जगत के स्वामी, हे अन्तर्यामी, मे तुझ से क्या मांगूं।

॥ हे रोम रोम मे बसने वाले राम...॥



हे रोम रोम मे बसने वाले राम,

जगत के स्वामी, हे अन्तर्यामी, मे तुझ से क्या मांगूं।

यशोमती नन्दन बृजबर नागर: भजन (Yashomati Nandan Brijwar Nagar)

सकट चौथ पौराणिक व्रत कथा - राजा हरिश्चंद्र.. (Sakat Chauth Pauranik Vrat Katha)

जन्माष्टमी भजन: ढँक लै यशोदा नजर लग जाएगी (Dhank Lai Yashoda Najar Lag Jayegi)

मीरा बाई भजन: ऐ री मैं तो प्रेम-दिवानी (Ae Ri Main To Prem Diwani)

बधाई भजन: बजे कुण्डलपर में बधाई, के नगरी में वीर जन्मे (Badhai Bhajan Baje Kundalpur Me Badayi Nagri Me Veer Janme)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 2 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 2)

मै हूँ बेटी तू है माता: भजन (Main Hoon Beti Tu Hai Mata)

श्री पंच-तत्व प्रणाम मंत्र (Panch Tattva Pranam Mantra)

जय शनि देवा - श्री शनिदेव आरती (Aarti Shri Shani Jai Jai Shani Dev)

भगवन लौट अयोध्या आए.. (Bhagwan Laut Ayodhya Aaye)

आज तो गुरुवार है, सदगुरुजी का वार है (Aaj To Guruwar hai, Sadguru Ka War Hai)

हरी दर्शन की प्यासी अखियाँ: भजन (Akhiya Hari Darshan Ki Pyasi)