भोर भई दिन चढ़ गया मेरी अम्बे: भजन (Bhor Bhai Din Chad Gaya Meri Ambey)

भोर भई दिन चढ़ गया मेरी अम्बे,

हो रही जय जय कार मंदिर विच आरती जय माँ।

हे दरबारा वाली आरती जय माँ।

ओ पहाड़ा वाली आरती जय माँ॥



काहे दी मैया तेरी आरती बनावा,

काहे दी पावां विच बाती,

मंदिर विच आरती जय माँ।

सुहे चोलेयाँ वाली आरती जय माँ।

हे माँ पहाड़ा वाली आरती जय माँ॥



सर्व सोने दी आरती बनावा,

अगर कपूर पावां बाती,

मंदिर विच आरती जय माँ।

हे माँ पिंडी रानी आरती जय माँ।

हे पहाड़ा वाली आरती जय माँ॥



कौन सुहागन दिवा बालेया मेरी मैया,

कौन जागेगा सारी रात,

मंदिर विच आरती जय माँ।

सच्चिया ज्योतां वाली आरती जय माँ।

हे पहाड़ा वाली आरती जय माँ॥



सर्व सुहागिन दिवा बलिया मेरी अम्बे,

ज्योत जागेगी सारी रात,

मंदिर विच आरती जय माँ।

हे माँ त्रिकुटा रानी आरती जय माँ।

हे पहाड़ा वाली आरती जय माँ॥



जुग जुग जीवे तेरा जम्मुए दा राजा,

जिस तेरा भवन बनाया,

मंदिर विच आरती जय माँ।

हे मेरी अम्बे रानी आरती जय माँ।

हे पहाड़ा वाली आरती जय माँ॥



सिमर चरण तेरा ध्यानु यश गावे,

जो ध्यावे सो, यो फल पावे,

रख बाणे दी लाज,

मंदिर विच आरती जय माँ।

सोहनेया मंदिरां वाली आरती जय माँ॥




Read Also:

»
नवरात्रि - Navratri
|
दुर्गा पूजा - Durga Puja

»
दिल्ली के आस-पास माता के प्रसिद्ध मंदिर!
|
जानें दिल्ली के कालीबाड़ी मंदिरों के बारे मे!

»
अम्बे तू है जगदम्बे काली
|
जय अम्बे गौरी
|
आरती माँ लक्ष्मीजी
|
आरती: श्री पार्वती माँ
|
आरती: माँ सरस्वती जी

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 9 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 9)

तेरी मंद मंद मुस्कनिया पे बलिहार: भजन (Teri Mand Mand Mushakniya Pe Balihar)

मंत्र: शांति पाठ (Shanti Path)

आरती: जय जय तुलसी माता (Aarti: Jai Jai Tulsi Mata)

हो लाल मेरी पत रखियो बला - दमादम मस्त कलन्दर: भजन (O Lal Meri Pat Rakhiyo Bala Duma Dum Mast Kalandar)

रामा रामा रटते रटते, बीती रे उमरिया: भजन (Rama Rama Ratate Ratate)

दे दो अंगूठी मेरे प्राणों से प्यारी: भजन (De Do Anguthi Mere Prano Se Pyari)

श्री सूर्य देव - ऊँ जय कश्यप नन्दन। (Shri Surya Dev Jai Kashyapa Nandana)

माँ रेवा: थारो पानी निर्मल (Maa Rewa: Tharo Pani Nirmal)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 20 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 20)

हिरण्यगर्भ दूधेश्वर ज्योतिर्लिंग प्रादुर्भाव पौराणिक कथा! (Hiranyagarbh Shri Dudheshwarnath Mahadev Utpatti Pauranik Katha)

श्री शङ्कराचार्य कृतं - शिव स्वर्णमाला स्तुति (Shiv Swarnamala Stuti)