भगवन लौट अयोध्या आए.. (Bhagwan Laut Ayodhya Aaye)

भगवन चौदह बरस वन वास,

भगवन लौट अयोध्या आए ।

भगवन चौदह बरस वन वास,

भगवन लौट अयोध्या आए ।



वो बागन-बागन आए,

और सूखे बाग हरियाए

वो बागन-बागन आए,

और सूखे बाग हरियाए



मालिन पैरन परि-परि जाए

भगवन लौट अयोध्या आए ।

मालिन पैरन परि-परि जाए

भगवन लौट अयोध्या आए ।



भगवन चौदह बरस वन वास,

भगवन लौट अयोध्या आए ।



वो तालन-तालन आए,

और सूखे ताल भ रिआए ।

वो तालन-तालन आए,

और सूखे ताल भ रिआए ।



धोविन पैरन परि-परि जाए,

भगवन लौट अयोध्या आए ।

धोविन पैरन परि-परि जाए,

भगवन लौट अयोध्या आए ।



भगवन चौदह बरस वन वास,

भगवन लौट अयोध्या आए ।



वो कुअटन-कुअटन आए,

और सूखे कुंआ भारियाए ।

वो कुअटन-कुअटन आए,

और सूखे कुंआ भारियाए ।



शक्किन पैरन परि-परि जाए,

भगवन लौट अयोध्या आए ।

शक्किन पैरन परि-परि जाए,

भगवन लौट अयोध्या आए ।



भगवन चौदह बरस वन वास,

भगवन लौट अयोध्या आए ।



वो महलन-महलन आए,

और खंडर महल चिनियाए ।

वो महलन-महलन आए,

और खंडर महल चिनियाए ।



रानी पैरन परि-परि जाए,

भगवन लौट अयोध्या आए।

रानी पैरन परि-परि जाए,

भगवन लौट अयोध्या आए।



भगवन चौदह बरस वन वास,

भगवन लौट अयोध्या आए ।

भगवन चौदह बरस वन वास,

भगवन लौट अयोध्या आए ।

भक्तामर स्तोत्र - भक्तामर-प्रणत-मौलि-मणि-प्रभाणा (Bhaktamara Stotra)

खजुराहो: ब्रह्मानंदम परम सुखदम (Khajuraho: Brahamanandam, Paramsukhdam)

अजब हैरान हूं भगवन! तुम्हें कैसे रिझाऊं मैं। (Ajab Hairan Hoon Bhagawan Tumhen Kaise Rijhaon Main)

मैं तो तेरी हो गई श्याम: भजन (Me Too Teri Hogai Shayam, Dunyan Kya Jane)

मुकुट सिर मोर का, मेरे चित चोर का: भजन (Mukut Sir Mor Ka, Mere Chit Chor Ka)

पापमोचनी एकादशी व्रत कथा (Papmochani Ekadashi Vrat Katha)

फंसी भंवर में थी मेरी नैया - श्री श्याम भजन (Fansi Bhanwar Me Thi Meri Naiya)

श्री विष्णु मत्स्य अवतार पौराणिक कथा (Shri Vishnu Matsyavatar Pauranik Katha)

दुनियाँ रचने वाले को भगवान कहते हैं! (Duniya Rachne Wale Ko Bhagwan Kehte Hain)

दुनिया बावलियों बतलावे.. श्री श्याम भजन (Duniyan Bawaliyon Batlawe)

श्री हनुमान अष्टोत्तर-शतनाम-नामावली (Shri Hanuman Ashtottara-Shatnam Namavali)

कथा: हनुमान गाथा (Katha Hanuman Gatha)