बांके बिहारी मुझको देना सहारा! (Banke Bihari Mujhko Dena Sahara)

बांके बिहारी मुझे देना सहारा,

कहीं छूट जाए ना दामन तुम्हारा॥



तेरे सिवा दिल में समाए ना कोई,

लगन का यह दीपक भुजाये ना कोई,

तू ही मेरी कस्ती तू ही है किनारा,

कहीं छूट जाए ना दामन तुम्हारा।

॥ बांके बिहारी मुझे देना सहारा...॥



तेरे रास्ते से हटाती है दुनिया,

इशारों से मुझको भूलती है दुनिया,

देखो ना हरगिज मैं दुनिया का इशारा

कहीं छूट जाए ना दामन तुम्हारा।

॥ बांके बिहारी मुझे देना सहारा...॥



तेरे नाम का गान गाता रहूं मैं,

सुबह शाम तुझको रिझाता रहूं मैं,

तेरा नाम मुझको है प्राणों से प्यारा,

कहीं छूट जाए ना दामन तुम्हारा।

॥ बांके बिहारी मुझे देना सहारा...॥



बड़ी भूल की जो मैं दुनिया में आया,

मूल भी खोया और ब्याज भी खोया,

दुनिया में मुझको ना भेजो ना दोबरा

कहीं छूट जाए ना दामन तुम्हारा।

॥ बांके बिहारी मुझे देना सहारा...॥



बांके बिहारी मुझे देना सहारा,

कहीं छूट जाए ना दामन तुम्हारा॥






Read Also

»
दिल्ली मे कहाँ मनाएँ श्री कृष्ण जन्माष्टमी।
|
भोग प्रसाद

»
श्री कृष्ण जन्माष्टमी - Shri Krishna Janmashtami

»
दिल्ली और आस-पास के प्रसिद्ध श्री कृष्ण मंदिर।
|
जानें दिल्ली मे ISKCON मंदिर कहाँ-कहाँ हैं?
|
दिल्ली के प्रमुख श्री कृष्ण प्रणामी मंदिर।

»
ब्रजभूमि के प्रसिद्ध मंदिर!
|
भारत के चार धाम

»
आरती: श्री बाल कृष्ण जी
|
भोग आरती: श्रीकृष्ण जी
|
बधाई भजन: लल्ला की सुन के मै आयी!

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 28 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 28)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 15 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 15)

भजन: नंद रानी तेरो लाला जबर भयो रे! (Nand Rani Tero Lala Zabar Bhayo Re)

भागवत कथा प्रसंग: कुंती ने श्रीकृष्ण से दुख क्यों माँगा? (Kunti Ne Shrikrishna Se Upahar Mein Dukh Kyon Manga)

कर्पूरगौरं करुणावतारं। (Karpura Gauram Karuna Avataram)

अयमात्मा ब्रह्म महावाक्य (Ayamatma Brahma)

वट सावित्री व्रत कथा (Vat Savitri Vrat Katha)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 20 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 20)

धर्मराज आरती - धर्मराज कर सिद्ध काज (Dharmraj Ki Aarti - Dharmraj Kar Siddh Kaaj)

आरती युगलकिशोर की कीजै! (Aarti Shri Yugal Kishoreki Keejai)

मेरी आखिओं के सामने ही रहना: भजन (Meri Akhion Ke Samne Hi Rehina Oh Shero Wali Jagdambe)

मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की - माँ संतोषी भजन (Main Toh Aarti Utaru Re Santoshi Mata Ki)