तुलसी आरती - महारानी नमो-नमो (Tulsi Aarti - Maharani Namo Namo)

माँ तुलसी पूजन,
तुलसी विवाह
एवं कार्तिक माह में माँ तुलसी की आरती सबसे अधिक श्रवण की जाती है।



तुलसी महारानी नमो-नमो,

हरि की पटरानी नमो-नमो ।



धन तुलसी पूरण तप कीनो,

शालिग्राम बनी पटरानी ।

जाके पत्र मंजरी कोमल,

श्रीपति कमल चरण लपटानी ॥



धूप-दीप-नवैद्य आरती,

पुष्पन की वर्षा बरसानी ।

छप्पन भोग छत्तीसों व्यंजन,

बिन तुलसी हरि एक ना मानी ॥



सभी सखी मैया तेरो यश गावें,

भक्तिदान दीजै महारानी ।

नमो-नमो तुलसी महारानी,

तुलसी महारानी नमो-नमो ॥



तुलसी महारानी नमो-नमो,

हरि की पटरानी नमो-नमो ।

शंकर मेरा प्यारा.. माँ री माँ मुझे मूरत ला दे (Shankar Mera Pyara.. Maa Ri Maa Mujhe Murat La De)

मन लेके आया, माता रानी के भवन में: भजन (Bhajan: Man Leke Aaya Mata Rani Ke Bhawan Me)

करवा चौथ व्रत कथा: द्रौपदी को श्री कृष्ण ने सुनाई कथा! (Karwa Chauth Vrat Katha)

आरती: वैष्णो माता (Aarti: Vaishno Mata)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 24 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 24)

काक चेष्टा, बको ध्यानं: आदर्श विद्यार्थी के पांच लक्षण (Kaak Cheshta Vidyarthee Ke Panch Gun)

राधा ढूंढ रही किसी ने मेरा श्याम देखा! (Radha Dundh Rahi Kisine Mera Shyam Dekha)

वो काला एक बांसुरी वाला: भजन (Wo Kala Ek Bansuri Wala)

श्री दुर्गा माँ के 108 नाम (Shri Durga Maa)

श्री महालक्ष्मी अष्टक (Shri Mahalakshmi Ashtakam)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 12 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 12)

भजन: मेरी विनती यही है! राधा रानी (Meri Binti Yahi Hai Radha Rani)