तेरे दरबार मे मैया खुशी मिलती है: भजन (Tere Darbar Mein Maiya Khushi Milti Hai)

तेरी छाया मे, तेरे चरणों मे,

मगन हो बैठूं, तेरे भक्तो मे॥



तेरे दरबार मे मैया खुशी मिलती है,

जिंदगी मिलती है रोतों को हँसी मिलती है॥



इक अजब सी मस्ती तन मन पे छाती है,

हर इक जुबां तेरे ओ मैया गीत गाती है,

बजते सितारों से मीठी पुकारो से,

गूंजे जहाँ सारा तेरे ऊँचे जयकारो से,

मस्ती मे झूमे तेरा दर चूमे,

तेरे चारो तरफ दुनिया ये घुमे,

ऐसी मस्ती भी भला क्या कहीं मिलती है,

तेरे दरबार मे मैया खुशी मिलती है॥



मेरी शेरों वाली माँ तेरी हर बात अच्छी है,

करनी की पूरी है माता मेरी सच्ची है,

सुख-दुख बँटाती है अपना बनाती है,

मुश्किल मे बच्चे को माँ ही काम आती है,

रक्षा करती है भक्त अपने की,

बात सच्ची करती उनके सपनो की,

सारी दुनिया की दौलत यही मिलती है,

तेरे दर बार मे मैया खुशी मिलती है॥



रोता हुआ आये जो हँसता हुआ जाता है,

मन की मुरादो को वो पाता हुआ जाता है,

किस्मत के मारो को रोगी बीमारों को,

करदे भला चंगा मेरी माँ अपने दुलारौ को,

पाप कट जाये चरण छूने से,

महकती है दुनिया माँ धुने से,

फिर तो माँ ऐसी कभी क्या कहीं मिलती है,

तेरे दरबार मे मैया खुशी मिलती है॥

कनकधारा स्तोत्रम्: अङ्गं हरेः पुलकभूषणमाश्रयन्ती (Kanakadhara Stotram: Angam Hareh Pulaka Bhusanam Aashrayanti)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 1 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 1)

शिवाष्ट्कम्: जय शिवशंकर, जय गंगाधर.. पार्वती पति, हर हर शम्भो (Shivashtakam: Jai ShivShankar Jai Gangadhar, Parvati Pati Har Har Shambhu)

सौराष्ट्रे सोमनाथं - द्वादश ज्योतिर्लिंग: मंत्र (Saurashtre Somanathan - Dwadas Jyotirlingani)

हे दुःख भन्जन, मारुती नंदन: भजन (Bhajan: Hey Dukh Bhanjan Maruti Nandan)

श्री सत्यनारायण कथा - द्वितीय अध्याय (Shri Satyanarayan Katha Dwitiya Adhyay)

जय रघुनन्दन, जय सिया राम: भजन (Jai Raghunandan Jai Siya Ram Bhajan)

श्री बद्रीनाथजी की आरती (Shri Badrinath Aarti)

मेरे मन के अंध तमस में: भजन (Mere Man Ke Andh Tamas Me Jyotirmayi Utaro)

भजन: जीवन है तेरे हवाले, मुरलिया वाले.. (Jeevan Hai Tere Hawale Muraliya Wale)

भजन: आजु मिथिला नगरिया निहाल सखिया (Aaj Mithila Nagariya Nihar Sakhiya)

भजन: गाइये गणपति जगवंदन (Gaiye Ganpati Jagvandan)