ऐ मुरली वाले मेरे कन्हैया, बिना तुम्हारे.. (Ae Murliwale Mere Kanhaiya, Bina Tumhare Tadap Rahe Hain)

ऐ मुरली वाले मेरे कन्हैया,

बिना तुम्हारे तड़प रहे हैं,

ऐ मुरली वालें मेरे कन्हैया,

बिना तुम्हारे तड़प रहे हैं,

तुम्हारी यादों में प्राण प्यारे,

आंखों से आंसू छलक रहे हैं,

ऐ मुरली वालें मेरे कन्हैया,

बिना तुम्हारे तड़प रहे हैं ॥



मुझे है कितनी तुमसे मोहब्बत,

कभी जरा आजमा के देखो,

तुम्हारे कदमों में मर मिटेंगे,

तुम्हारे कदमों में मर मिटेंगे,

दिल में ये अरमां मचल रहे हैं,

ऐ मुरली वालें मेरे कन्हैया,

बिना तुम्हारे तड़प रहे हैं ॥



मुझे है चाहत बस एक तेरी,

ना छोड़ना तुम मुझे अकेला,

तुम मुझसे बस इतना सा कहदो,

तुम मुझसे बस इतना सा कहदो,

मिलने को तुमसे हम चल रहे हैं,

ऐ मुरली वालें मेरे कन्हैया,

बिना तुम्हारे तड़प रहे हैं ॥



हम तुमसे दामन फैलाके मांगे,

रहमत की अपनी तुम भीख दे दो,

‘चित्र विचित्र’ भी ऐ कमली वाले,

‘चित्र विचित्र’ भी ऐ कमली वाले,

तेरे कर्म पे ही पल रहे हैं,

ऐ मुरली वालें मेरे कन्हैया,

बिना तुम्हारे तड़प रहे हैं ॥



ऐ मुरली वाले मेरे कन्हैया,

बिना तुम्हारे तड़प रहे हैं,

ऐ मुरली वालें मेरे कन्हैया,

बिना तुम्हारे तड़प रहे हैं,

तुम्हारी यादों में प्राण प्यारे,

आंखों से आंसू छलक रहे हैं,

ऐ मुरली वालें मेरे कन्हैया,

बिना तुम्हारे तड़प रहे हैं ॥

सबसे ऊंची प्रेम सगाई: भजन (Bhajan: Sabse Unchi Prem Sagai)

भजन: हरि जी! मेरी लागी लगन मत तोडना.. (Hari Ji Meri Lagi Lagan Mat Todna)

मेरे लाडले गणेश प्यारे प्यारे: भजन (Mere Ladle Ganesh Pyare Pyare Bhajan)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 13 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 13)

मंत्र: श्री विष्णुसहस्रनाम पाठ (Shri Vishnu Sahasranam Path)

त्रिमूर्तिधाम: श्री हनुमान जी की आरती (Hanuman Ji Ki Aarti Trimurtidham)

पकड़ लो बाँह रघुराई, नहीं तो डूब जाएँगे: भजन (Pakadlo Bah Raghurai, Nahi Too Doob Jayenge)

बधाई भजन: लल्ला की सुन के मै आयी यशोदा मैया देदो! (Lalla Ki Sun Ke Mai Aayi Yashoda Maiya Dedo Badhai)

जो भजे हरि को सदा: भजन (Jo Bhaje Hari Ko Sada So Hi Param Pada Pavega)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 7 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 7)

जिसकी लागी रे लगन भगवान में..! (Jiski Lagi Re Lagan Bhagwan Mein)

गणनायकाय गणदेवताय गणाध्यक्षाय धीमहि। (Gananaykay Gandevatay Ganadhyakshay Dheemahi)