धर्मराज आरती - ॐ जय धर्म धुरन्धर (Dharmraj Ki Aarti - Om Jai Dharm Dhurandar)

ॐ जय जय धर्म धुरन्धर,

जय लोकत्राता ।

धर्मराज प्रभु तुम ही,

हो हरिहर धाता ॥



जय देव दण्ड पाणिधर यम तुम,

पापी जन कारण ।

सुकृति हेतु हो पर तुम,

वैतरणी ताराण ॥2॥



न्याय विभाग अध्यक्ष हो,

नीयत स्वामी ।

पाप पुण्य के ज्ञाता,

तुम अन्तर्यामी ॥3॥



दिव्य दृष्टि से सबके,

पाप पुण्य लखते ।

चित्रगुप्त द्वारा तुम,

लेखा सब रखते ॥4॥



छात्र पात्र वस्त्रान्न क्षिति,

शय्याबानी ।

तब कृपया, पाते हैं,

सम्पत्ति मनमानी ॥5॥



द्विज, कन्या, तुलसी,

का करवाते परिणय ।

वंशवृद्धि तुम उनकी,

करते नि:संशय ॥6॥



दानोद्यापन-याजन,

तुष्ट दयासिन्धु ।

मृत्यु अनन्तर तुम ही,

हो केवल बन्धु ॥7॥



धर्मराज प्रभु,

अब तुम दया ह्रदय धारो ।

जगत सिन्धु से स्वामिन,

सेवक को तारो ॥8॥



धर्मराज जी की आरती,

जो कोई नर गावे ।

धरणी पर सुख पाके,

मनवांछित फल पावे ॥9॥

भजन: बाबा ये नैया कैसे डगमग डोली जाये (Baba Ye Naiya Kaise Dagmag Doli Jaye)

इस योग्य हम कहाँ हैं, गुरुवर तुम्हें रिझायें: भजन (Is Yogya Ham Kahan Hain, Guruwar Tumhen Rijhayen)

राम ना मिलेगे हनुमान के बिना: भजन (Bhajan: Ram Na Milege Hanuman Ke Bina)

अथ दुर्गाद्वात्रिंशन्नाममाला - श्री दुर्गा द्वात्रिंशत नाम माला (Shri Durga Dwatrinshat Nam Mala)

देवोत्थान / प्रबोधिनी एकादशी व्रत कथा 2 (Devutthana Ekadashi Vrat Katha 2)

मेरी अखियों के सामने ही रहना, माँ जगदम्बे: भजन (Meri Akhion Ke Samne Hi Rehna Maa Jagdambe)

अयमात्मा ब्रह्म महावाक्य (Ayamatma Brahma)

ना जी भर के देखा, ना कुछ बात की: भजन (Na Jee Bhar Ke Dekha Naa Kuch Baat Ki)

रमा एकादशी व्रत कथा (Rama Ekadashi Vrat Katha)

कान्हा वे असां तेरा जन्मदिन मनावणा (Kahna Ve Assan Tera Janmdin Manavna)

मुरली बजा के मोहना! (Murli Bajake Mohana Kyon Karliya Kinara)

आरती सरस्वती जी: ओइम् जय वीणे वाली (Saraswati Om Jai Veene Wali)