धर्मराज आरती - ॐ जय धर्म धुरन्धर (Dharmraj Ki Aarti - Om Jai Dharm Dhurandar)

ॐ जय जय धर्म धुरन्धर,

जय लोकत्राता ।

धर्मराज प्रभु तुम ही,

हो हरिहर धाता ॥



जय देव दण्ड पाणिधर यम तुम,

पापी जन कारण ।

सुकृति हेतु हो पर तुम,

वैतरणी ताराण ॥2॥



न्याय विभाग अध्यक्ष हो,

नीयत स्वामी ।

पाप पुण्य के ज्ञाता,

तुम अन्तर्यामी ॥3॥



दिव्य दृष्टि से सबके,

पाप पुण्य लखते ।

चित्रगुप्त द्वारा तुम,

लेखा सब रखते ॥4॥



छात्र पात्र वस्त्रान्न क्षिति,

शय्याबानी ।

तब कृपया, पाते हैं,

सम्पत्ति मनमानी ॥5॥



द्विज, कन्या, तुलसी,

का करवाते परिणय ।

वंशवृद्धि तुम उनकी,

करते नि:संशय ॥6॥



दानोद्यापन-याजन,

तुष्ट दयासिन्धु ।

मृत्यु अनन्तर तुम ही,

हो केवल बन्धु ॥7॥



धर्मराज प्रभु,

अब तुम दया ह्रदय धारो ।

जगत सिन्धु से स्वामिन,

सेवक को तारो ॥8॥



धर्मराज जी की आरती,

जो कोई नर गावे ।

धरणी पर सुख पाके,

मनवांछित फल पावे ॥9॥

नमस्कार भगवन तुम्हें भक्तों का बारम्बार हो: भजन (Namaskar Bhagwan Tumhe Bhakton Ka Barambar Ho)

मुकुट सिर मोर का, मेरे चित चोर का: भजन (Mukut Sir Mor Ka, Mere Chit Chor Ka)

वो है जग से बेमिसाल सखी: भजन (Woh Hai Jag Se Bemisal Sakhi)

श्रीषङ्गोस्वाम्यष्टकम् (Sri Sad-Goswamyastakam)

चलो शिव शंकर के मंदिर में भक्तो: भजन (Chalo Shiv Shankar Ke Mandir Me Bhakto)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 22 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 22)

ॐ शंकर शिव भोले उमापति महादेव: भजन (Shankar Shiv Bhole Umapati Mahadev)

सज रही मेरी अम्बे मैया - माता भजन (Saj Rahi Meri Ambe Maiya Sunahare Gote Mein)

जन्माष्टमी भजन: बड़ा नटखट है रे, कृष्ण कन्हैया! (Bada Natkhat Hai Re Krishn Kanhaiya)

मुझे कौन जानता था तेरी बंदगी से पहले: भजन (Mujhe Kaun Poochhta Tha Teri Bandagi Se Pahle)

राघवजी तुम्हें ऐसा किसने बनाया: भजन (Raghav Ji Tumhe Aisa Kisne Banaya)

कथा: हनुमान गाथा (Katha Hanuman Gatha)