ऐसे मेरे मन में विराजिये: भजन (Aaise Mere Maan Main Virajiye)

ऐसे मेरे मन में विराजिये

ऐसे मेरे मन में विराजिये

कि मै भूल जाऊं काम धाम

गाऊं बस तेरा नाम

भूल जाऊं काम धाम

गाऊं बस तेरा नाम

सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम

सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम

॥ ऐसे मेरे मन में विराजिये...॥



तू चंदा हम है चकोर,

दर्शन को मचाते है शोर।

तेरी कृपा की नजर,

अब हो जाये अपनी भी ओर।



करुणा करिये मत लाजिए,

कि मै भूल जाऊं काम धाम

गाऊं बस तेरा नाम

भूल जाऊं काम धाम

गाऊं बस तेरा नाम

सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम

सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम

ऐसे मेरे मन मैं विराजिये, ऐसे मेरे मन मैं..



प्रीती का सच्चा सुरूर,

जिन्हें तुमने दिया है हुज़ूर।

भक्ति की गहराईयाँ

पा लेंगे वो प्रेमी जरूर।



चरण कमल चित साजिए

कि मै भूल जाऊं काम धाम

गाऊं बस तेरा नाम

भूल जाऊं काम धाम

गाऊं बस तेरा नाम

सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम

सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम

ऐसे मेरे मन मैं विराजिये, ऐसे मेरे मन मैं..



जीने का एक फल यही,

जिसने जाना है ज्ञानी वही।

प्रीतम हृदय में बसे

बात संतो ने इतनी कही।



सिया संग प्यारी छवि छाजिये।

कि मै भूल जाऊं काम धाम

गाऊं बस तेरा नाम

भूल जाऊं काम धाम

गाऊं बस तेरा नाम

सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम

सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम



ऐसे मेरे मन में विराजिये

ऐसे मेरे मन में विराजिये

कि मै भूल जाऊं काम धाम

गाऊं बस तेरा नाम

भूल जाऊं काम धाम

गाऊं बस तेरा नाम

सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम

सीता राम सीता राम, सीता राम सीता राम

पाण्डव निर्जला एकादशी व्रत कथा! (Nirjala Ekadashi Vrat Katha)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 4 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 4)

मन मेरा मंदिर, शिव मेरी पूजा: भजन (Man Mera Mandir Shiv Meri Pooja)

मेरी झोपड़ी के भाग, आज खुल जाएंगे: भजन (Meri Jhopdi Ke Bhag Aaj Khul Jayenge)

भजन: भगतो को दर्शन दे गयी रे (Bhagton Ko Darshan De Gayi Re Ek Choti Si Kanya)

भजन: जय हो शिव भोला भंडारी! (Jai Ho Shiv Bhola Bhandari Lela Aprampar Tumhari Bhajan)

विनती: दीनानाथ मेरी बात, छानी कोणी तेरे से (Dinanath Meri Baat Chani Koni Tere Se)

आजा माँ तेनु अखियां उडीकदीयां: भजन (Aja Maa Tenu Ankhiyan Udeekdiyan)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 2 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 2)

श्री दशावतार स्तोत्र: प्रलय पयोधि-जले (Dashavtar Stotram: Pralay Payodhi Jale)

अहं ब्रह्मास्मि महावाक्य (Aham Brahmasmi)

बाहुबली से शिव तांडव स्तोत्रम, कौन-है वो (Shiv Tandav Stotram And Kon Hai Woh From Bahubali)