भजन: उठ जाग मुसाफिर भोर भई (Bhajan: Uth Jag Musafir Bhor Bhai)

उठ जाग मुसाफिर भोर भई,

अब रैन कहाँ जो सोवत है।

जो सोवत है सो खोवत है,

जो जागत है सोई पावत है॥



उठ नींद से अखियाँ खोल जरा,

और अपने प्रभु में ध्यान लगा।

यह प्रीत करन की रीत नहीं,

प्रभु जागत है तू सोवत है॥

॥ उठ जाग मुसाफिर भोर भई...॥



जो कल करना सो आज कर ले,

जो आज करे सो अब कर ले।

जब चिड़िया ने चुग खेत लिया,

फिर पछताए क्या होवत है॥

॥ उठ जाग मुसाफिर भोर भई...॥



नादान भुगत अपनी करनी,

ऐ पापी पाप में चैन कहाँ।

जब पाप की गठड़ी शीश धरी,

अब शीश पकड़ क्यूँ रोवत है॥



उठ जाग मुसाफिर भोर भई,

अब रैन कहाँ जो सोवत है।

जो सोवत है सो खोवत है,

जो जगत है सोई पावत है॥

जिनका मैया जी के चरणों से संबंध हो गया (Jinka Maiya Ji Ke Charno Se Sabandh Hogaya)

आए हैं प्रभु श्री राम, भरत फूले ना समाते: भजन (Aaye Hain Prabhu Shri Ram Bharat Fule Na Samate)

शिवाष्ट्कम्: जय शिवशंकर, जय गंगाधर.. पार्वती पति, हर हर शम्भो (Shivashtakam: Jai ShivShankar Jai Gangadhar, Parvati Pati Har Har Shambhu)

जिनके हृदय श्री राम बसे: भजन (Jinke Hridey Shri Ram Base)

॥श्रीमहालक्ष्मीस्तोत्रम् विष्णुपुराणान्तर्गतम्॥ (Mahalakshmi Stotram From Vishnupuran)

आरती: श्री बाल कृष्ण जी (Aarti: Shri Bal Krishna Ki Keejen)

लिङ्गाष्टकम् (Lingashtakam)

उड़े उड़े बजरंगबली, जब उड़े उड़े: भजन (Ude Ude Bajrangbali, Jab Ude Ude)

नाम त्रय अस्त्र मन्त्र (Nama Traya Astra Mantra)

जल जाये जिह्वा पापिनी, राम के बिना: भजन (Jal Jaaye Jihwa Papini, Ram Ke Bina)

बेटा बुलाए झट दौड़ी चली आए माँ: भजन (Beta Bulaye Jhat Daudi Chali Aaye Maa)

किसलिए आस छोड़े कभी ना कभी: भजन (Kisliye Aas Chhauden Kabhi Na Kabhi)