भजन: बजरंग के आते आते कही भोर हो न जाये रे... (Bajrang Ke Aate 2 Kahin Bhor Ho Na Jaye Re)

श्री हनुमान जन्मोत्सव, मंगलवार व्रत, शनिवार पूजा, बूढ़े मंगलवार, सुंदरकांड, रामचरितमानस कथा और अखंड रामायण के पाठ में प्रमुखता से गाये जाने वाला भजन।



बजरंग के आते आते कही भोर हो न जाये रे,

ये राम सोचते हैं, श्री राम सोचते हैं।



क्या भोर होते होते बजरंग आ सकेंगे,

लक्ष्मण को नया जीवन फिर से दिला सकेंगे।

कही सास की ये डोरी कमजोर हो न जाये रे,

ये राम सोचते हैं, श्री राम सोचते हैं॥ बजरंग के आते आते...॥



कैसे कहूँगा जा के मारा गया है लक्ष्मण,

तज देगी प्राण सुन के माता सुमित्रा फ़ौरन।

कहीं यह कलंक मुझसे इक और हो ना जाए रे,

ये राम सोचते हैं, श्री राम सोचते हैं॥ बजरंग के आते आते...॥



लक्ष्मण बिना है टूटा यह दांया हाथ मेरा,

कुछ सूझता नहीं है चारो तरफ अँधेरा।

लंका में कहीं घर घर ये शोर हो ना जाये रे

ये राम सोचते हैं, श्री राम सोचते हैं॥ बजरंग के आते आते...॥



वर्ना अटल है ‘शर्मा’ मेरी बात ना टलेगी,

लक्ष्मण के साथ मेरी ‘लख्खा’ चिता जलेगी।

मैं सोचता तो कुछ हूँ, कुछ और हो न जाये रे,

ये राम सोचते हैं, श्री राम सोचते हैं॥ बजरंग के आते आते...॥



बजरंग के आते आते कही भोर हो न जाये रे,

ये राम सोचते हैं, श्री राम सोचते हैं।




Singer:
स्वरलखबीर सिंह लक्खा

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 2 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 2)

भगवान शिव शतनाम-नामावली स्तोत्रम्! (Shri Shiv Stotram Sat Namavali)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 30 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 30)

ऐसे मेरे मन में विराजिये: भजन (Aaise Mere Maan Main Virajiye)

श्री शङ्कराचार्य कृतं - वेदसारशिवस्तोत्रम् (Vedsara Shiv Stotram)

मन मेरा मंदिर, शिव मेरी पूजा: भजन (Man Mera Mandir Shiv Meri Pooja)

तुम आशा विश्वास हमारे, रामा: भजन (Tum Asha Vishwas Hamare Bhajan)

श्री हनुमान स्तवन - श्रीहनुमन्नमस्कारः (Shri Hanuman Stawan - Hanumanna Namskarah)

मन फूला फूला फिरे जगत में: भजन (Mann Fula Fula Phire Jagat Mein)

भजन: चंदन है इस देश की माटी (Chandan Hai Is Desh Ki Mati)

अजा एकादशी व्रत कथा! (Aja Ekadashi Vrat Katha)

कनकधारा स्तोत्रम्: अङ्गं हरेः पुलकभूषणमाश्रयन्ती (Kanakadhara Stotram: Angam Hareh Pulaka Bhusanam Aashrayanti)