दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार: भजन (Duniya Se Jab Main Hara Too Aaya Tere Dwar)

दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,

यहाँ पे भी जो हारा,

कहाँ जाऊंगा सरकार ॥



सुख में कभी ना तेरी याद है आई,

दुःख में सांवरिया तुमसे प्रीत लगाई,

सारा दोष है मेरा में करता हूँ स्वीकार,

यहाँ पे भी जो हारा,

कहाँ जाऊंगा सरकार ॥



मेरा तो क्या है में तो पहले से हारा,

तुमसे ही पूछेगा ये संसार सारा,

डूब गई क्यों नैया तेरे रहते खेवनहार,

यहाँ पे भी जो हारा,

कहाँ जाऊंगा सरकार ॥



सब कुछ गवाया बस लाज बची है,

तुझपे कन्हैया मेरी आस टिकी है,

सुना है तुम सुनते हो हम जेसो की पुकार,

यहाँ पे भी जो हारा,

कहाँ जाऊंगा सरकार ॥



जिनको सुनाया सोनू अपना फ़साना,

सबने बताया मुझे तेरा ठिकाना,

सब कुछ छोड़ के आखिर आया तेरे दरबार,

यहाँ पे भी जो हारा,

कहाँ जाऊंगा सरकार ॥

परिश्रम करे कोई कितना भी लेकिन: भजन (Parishram Kare Koi Kitana Bhi Lekin)

भगवान राम के राजतिलक में निमंत्रण से छूटे भगवान चित्रगुप्त (Ram Ke Rajtilak Me Nimantran Se Chhute Bhagwan Chitragupt)

जय रघुनन्दन, जय सिया राम: भजन (Jai Raghunandan Jai Siya Ram Bhajan)

भजन: काशी वाले, देवघर वाले, जय शम्भू। (Bhajan: Kashi Wale Devghar Wale Jai Shambu)

मुरली वाले ने घेर लयी, अकेली पनिया गयी: भजन (Murli Wale Ne Gher Layi)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 27 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 27)

माँ बगलामुखी पौराणिक कथा! (Maa Baglamukhi Pauranik Katha)

श्री जगन्नाथ अष्टकम (Shri Jagannath Ashtakam)

जय जय सुरनायक जन सुखदायक: भजन (Jai Jai Surnayak Jan Sukhdayak Prantpal Bhagvant)

जय सन्तोषी माता: आरती (Jai Santoshi Mata Aarti)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 2 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 2)

जिसकी लागी रे लगन भगवान में..! (Jiski Lagi Re Lagan Bhagwan Mein)