दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार: भजन (Duniya Se Jab Main Hara Too Aaya Tere Dwar)

दुनिया से मैं हारा तो आया तेरे द्वार,

यहाँ पे भी जो हारा,

कहाँ जाऊंगा सरकार ॥



सुख में कभी ना तेरी याद है आई,

दुःख में सांवरिया तुमसे प्रीत लगाई,

सारा दोष है मेरा में करता हूँ स्वीकार,

यहाँ पे भी जो हारा,

कहाँ जाऊंगा सरकार ॥



मेरा तो क्या है में तो पहले से हारा,

तुमसे ही पूछेगा ये संसार सारा,

डूब गई क्यों नैया तेरे रहते खेवनहार,

यहाँ पे भी जो हारा,

कहाँ जाऊंगा सरकार ॥



सब कुछ गवाया बस लाज बची है,

तुझपे कन्हैया मेरी आस टिकी है,

सुना है तुम सुनते हो हम जेसो की पुकार,

यहाँ पे भी जो हारा,

कहाँ जाऊंगा सरकार ॥



जिनको सुनाया सोनू अपना फ़साना,

सबने बताया मुझे तेरा ठिकाना,

सब कुछ छोड़ के आखिर आया तेरे दरबार,

यहाँ पे भी जो हारा,

कहाँ जाऊंगा सरकार ॥

सर को झुकालो, शेरावाली को मानलो - भजन (Sar Ko Jhukalo Sherawali Ko Manalo)

सतगुरु मैं तेरी पतंग: गुरु भजन (Satguru Main Teri Patang)

भजन: धरा पर अँधेरा बहुत छा रहा है (Bhajan: Dhara Par Andhera Bahut Chha Raha Hai)

श्री बालाजी आरती, ॐ जय हनुमत वीरा (Shri Balaji Ki Aarti, Om Jai Hanumat Veera)

सच्चा है माँ का दरबार, मैय्या का जवाब नहीं: भजन (Saccha Hai Maa Ka Darbar, Maiya Ka Jawab Nahi)

गजानंद महाराज पधारो कीर्तन की तैयारी है! (Gajanand Maharaj Padharo Kirtan Ki Taiyari Hai)

वरुथिनी एकादशी व्रत कथा (Varuthini Ekadashi Vrat Katha)

भोले तेरी बंजारन: भजन (Bhole Teri Banjaran)

श्री हनुमान-बालाजी भजन (Shri Hanuman-Balaji Bhajan)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 13 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 13)

प्रभु को अगर भूलोगे बन्दे, बाद बहुत पछताओगे (Prabhu Ko Agar Bhuloge Bande Need Kahan Se Laoge)

भए प्रगट कृपाला दीनदयाला: भजन (Bhaye Pragat Kripala Din Dayala)