भजन: बाबा ये नैया कैसे डगमग डोली जाये (Baba Ye Naiya Kaise Dagmag Doli Jaye)

बाबा ये नैया कैसे,

डगमग डोली जाए,

बिन माझी पतवार के इसको,

तू ही पार लगाए,

॥ बाबा ये नैया कैसे..॥



दूर दूर नहीं दिखे किनारा,

लहरे भी बिसराए,

बादल भी है गरज रहे और,

मुझको रहे डराए,

जबकि मैं ये सोच रहा तू,

अब आए तब आए,

बाबा ये नईया कैसे,

डगमग डोली जाए,

बिन माझी पतवार के इसको,

तू ही पार लगाए,

॥ बाबा ये नैया कैसे..॥



दुनिया है इक रंग मंच और,

तू इसका निर्देशक,

तू ही बनाए तू ही मिटाए,

तू ही इसका विशेषज्ञ,

फिर क्यों ये तेरे हाथ के पुतले,

मुझको आँख दिखाए,

बाबा ये नईया कैसे,

डगमग डोली जाए,

बिन माझी पतवार के इसको,

तू ही पार लगाए,

॥ बाबा ये नैया कैसे..॥



तुझको ही मैं समझूँ अपना,

बाकी सब है पराए,

तेरे हाथों सबकुछ सम्भव,

तू ही लाज बचाए,

कर दे एक इशारा नैया,

पार मेरी हो जाए,

बाबा ये नईया कैसे,

डगमग डोली जाए,

बिन माझी पतवार के इसको,

तू ही पार लगाए,

॥ बाबा ये नैया कैसे..॥



तीन बाण तरकश में तेरे,

चले तो ना रुक पाए,

भेदे तू पत्तो की तरह फिर,

कोई भी ना बच पाए,

भेदो तुम ‘निर्मल’ की विपदा,

पास मेरे ना आए,

बाबा ये नईया कैसे,

डगमग डोली जाए,

बिन माझी पतवार के इसको,

तू ही पार लगाए,

॥ बाबा ये नैया कैसे..॥



बाबा ये नैया कैसे,

डगमग डोली जाए,

बिन माझी पतवार के इसको,

तू ही पार लगाए,

॥ बाबा ये नैया कैसे..॥

भजन: ज्योत से ज्योत जगाते चलो.. (Bhajan: Jyot Se Jyot Jagate Chalo)

जेल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया.. (Jail Main Prakate Krishn Kanhaiya)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 11 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 11)

भजन: मन तड़पत हरि दर्शन को आज (Mann Tarpat Hari Darshan Ko Aaj)

कैसे जिऊ मैं राधा रानी तेरे बिना! (Kaise Jiun Main Radha Rani Tere Bina)

श्री गणेशपञ्चरत्नम् - मुदाकरात्तमोदकं (Shri Ganesha Pancharatnam - Mudakaratta Modakam)

लड्डू गोपाल मेरा, छोटा सा है लला मेरा.. (Laddu Gopal Mera Chota Sa Hai Lalaa)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 29 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 29)

छठ पूजा: कांच ही बांस के बहंगिया (Chhath: Kanch Hi Bans Ke Bahangiya)

ॐ श्री विष्णु मंत्र: मङ्गलम् भगवान विष्णुः (Shri Vishnu Mantra)

कार्तिक मास माहात्म्य कथा: अध्याय 1 (Kartik Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 1)

आरती: श्री रामचन्द्र जी (Shri Ramchandra Ji 2)