परिश्रम करे कोई कितना भी लेकिन: भजन (Parishram Kare Koi Kitana Bhi Lekin)

परिश्रम करे कोई कितना भी लेकिन,

कृपा के बिना काम चलता नहीं है ।

निराशा निशा नष्ट होती ना तब तक,

दया भानु जब तक निकलता नहीं है ।




दमित वासनाये, अमित रूप ले जब,


अंतः-करण में, उपद्रव मचाती ।


तब फिर कृपासिंधु, श्री राम जी के,


अनुग्रह बिना, काम चलता नहीं है ।

(अनुग्रह बिना, मन सम्हलता नहीं है)



परिश्रम करे कोई कितना भी लेकिन,

कृपा के बिना काम चलता नहीं है ।




म्रगवारी जैसे, असत इस जगत से,


पुरुषार्थ के बल पे, बचना है मुश्किल ।


श्री हरि के सेवक, जो छल छोड़ बनते,


उन्हें फिर ये, संसार छलता नहीं है ।



परिश्रम करे कोई कितना भी लेकिन,

कृपा के बिना काम चलता नहीं है ।




सद्गुरू शुभाशीष, पाने से पहले,


जलता नहीं ग्यान, दीपक भी घट में ।


बहती न तब तक, समर्पण की सरिता,


अहंकार जब तक, कि गलता नहीं ।



परिश्रम करे कोई कितना भी लेकिन,

कृपा के बिना काम चलता नहीं है ।




राजेश्वरानन्द, आनंद अपना,


पाकर ही लगता है, जग जाल सपना ।


तन बदले कितने भी, पर प्रभु भजन बिन,


कभी जन का, जीवन बदलता नहीं ।



परिश्रम करे कोई कितना भी लेकिन,

कृपा के बिना काम चलता नहीं है ।

निराशा निशा नष्ट होती ना तब तक,

दया भानु जब तक निकलता नहीं है ।

भजन: भगतो को दर्शन दे गयी रे (Bhagton Ko Darshan De Gayi Re Ek Choti Si Kanya)

देवोत्थान / प्रबोधिनी एकादशी व्रत कथा 2 (Devutthana Ekadashi Vrat Katha 2)

भजन: आजु मिथिला नगरिया निहाल सखिया (Aaj Mithila Nagariya Nihar Sakhiya)

प्रभु मेरे मन को बना दे शिवाला! (Prabhu Mere Mann Ko Banado Shivalay)

ऋण मोचक मङ्गल स्तोत्रम् (Rin Mochan Mangal Stotram)

मीरा दीवानी हो गयी रे..: भजन (Meera Deewani Ho Gayi Re..)

श्री गौ अष्टोत्तर नामावलि - गौ माता के 108 नाम (Gau Mata Ke 108 Naam)

पुरुषोत्तम मास माहात्म्य कथा: अध्याय 6 (Purushottam Mas Mahatmya Katha: Adhyaya 6)

राम रस बरस्यो री, आज म्हारे आंगन में (Ram Ras Barsyo Re, Aaj Mahre Angan Main)

जय राधे, जय कृष्ण, जय वृंदावन: भजन (Jaya Radhe Jaya Krishna Jaya Vrindavan)

जिसको नही है बोध, तो गुरु ज्ञान क्या करे (Jisko Nahi Hai Bodh Guru Gyan Kya Kare)

सपने में सखी देख्यो नंदगोपाल: भजन (Sapane Me Sakhi Dekhyo Nandgopal)